Saturday, July 24, 2021

शिवना साहित्यिकी का वर्ष : 6, अंक : 22 , त्रैमासिक : जुलाई- सितम्बर अंक

0 comments

मित्रों, संरक्षक एवं सलाहकार संपादक, सुधा ओम ढींगरा, प्रबंध संपादक नीरज गोस्वामी, संपादक पंकज सुबीर, कार्यकारी संपादक, शहरयार, सह संपादक शैलेन्द्र शरण, पारुल सिंह के संपादन में शिवना साहित्यिकी का वर्ष : 6, अंक : 22 , त्रैमासिक : जुलाई- सितम्बर अंक अब उपलब्ध है। इस अंक में शामिल हैं- आवरण कविता / अशोक वाजपेयी, संपादकीय / शहरयार /, व्यंग्य चित्र / काजल कुमार /, पिता की स्मृति, उस नदी के साथ हम हैं...रहेंगे, प्रज्ञा /, मेरे हर लिखे पर उनकी छाप है, वंदना अवस्थी दुबे / पुस्तक समीक्षा, दस प्रतिनिधि कहानियाँ, समीक्षक : से. रा. यात्री / लेखक : बलराम /, सही शब्द की तलाश में, ब्रजेश कानूनगो / दुर्गाप्रसाद झाला /, किसी शहर में दीपक गिरकर / अश्विनीकुमार दुबे /, एक यात्रा यह भी , त्रिलोकी मोहन पुरोहित / माधव नागदा /, शिलाएँ मुस्काती हैं, डॉ. मनोहर अभय / यामिनी नयन गुप्ता /, वह कौन थी, बी आकाश राव / संजीव /, निन्यानवे का फेर, दीपक गिरकर / ज्योति जैन /, मन बावरा, अनीता रश्मि / घनश्याम श्रीवास्तव /, इंसानियत डॉट कॉम, रमेश खत्री / नीलिमा टिक्कू / , जापानी सराय देवेश पथ सारिया / अनुकृति उपाध्याय /, समय पर दस्तक, सूरजमल रस्तोगी / संदीप तोमर /  कुछ तो कहो गांधारी, सुषमा मुनीन्द्र / लोकेन्द्र सिंह कोट /, यह पृथ्वी का प्रेमकाल, लक्ष्मीकांत मुकुल / अरविंद श्रीवास्तव /, बनियों की विलायत, संदीप वर्मा / राजा सिंह /, कबूतर का कैटवॉक ब्रजेश कानूनगो / समीक्षा तैलंग /, दुनिया लौट आएगी, नीलोत्पल रमेश / शिव कुशवाहा /, पीठ पर रोशनी, नीलोत्पल रमेश / नीरज नीर /, कौन देस को वासी, रंजना अरगड़े / सूर्यबाला /, सरहदों के पार, दरख़्तों के साये में, सुधा ओम ढींगरा / रेखा भाटिया /, स्वाँग, ब्रजेश राजपूत / डॉ. ज्ञान चतुर्वेदी /, रिश्ते, शैलेन्द्र शरण / पंकज सुबीर /, बहती हो तुम नदी निरंतर, शैलेन्द्र शरण / श्याम सुन्दर तिवारी /, कोरोना काल की दंश कथाएँ, शैलेन्द्र शरण / अजय बोकिल / बलम कलकत्ता, टीना रावल / गीताश्री /, अंधेरा पाख और जुगनू, राहुल देव / राजेंद्र वर्मा / फ्लैशबैक, प्रकाश कांत / ब्रजेश कानूनगो /, श्वान पुराण, रीता कौशल / आदित्य कुमार राय / पुस्तक आलोचना, खिड़कियों से झाँकती आँखें, डॉ. सुधांशु कुमार शुक्ला / सुधा ओम ढींगरा / केंद्र में पुस्तक, दृश्य से अदृश्य का सफ़र, रमेश दवे, हरिराम मीणा, गोविंद सेन, जसविन्दर कौर बिन्द्रा, सुधा ओम ढींगरा  / , यही तो इश्क़ है, ओम निश्चल, शैलेन्द्र शरण / पंकज सुबीर / शोध आलेख, अकाल में उत्सव, अतुल वैभव / पंकज सुबीर  /, पूँजीवादी-उपभोक्तावादी संस्कृति और स्त्री, दिनेश कुमार पाल /, नई पुस्तक, कुछ इधर ज़िंदगी, कुछ उधर ज़िंदगी / गीताश्री / माया महा ठगनी हम जानी / अश्विनीकुमार दुबे /, पुकारती हैं स्मृतियाँ / आनंद पचौरी /, अनामिका / गजेन्द्र सिंह वर्धमान /, एक था भौंदू व अन्य लघुकथाएँ / काजल कुमार / ,फटा हलफ़नामा / डॉ. श्याम बाबू शर्मा /, वायरस से वैक्सीन तक / आदित्य श्रीवास्तव /, उपन्यास अंश, सीतायन (बांग्ला उपन्यास), मल्लिका सेनगुप्ता / अनुवाद : सुशील कान्ति /
डिज़ायनिंग सनी गोस्वामी, सुनील पेरवाल, शिवम गोस्वामी। आपकी प्रतिक्रियाओं का संपादक मंडल को इंतज़ार रहेगा। पत्रिका का प्रिंट संस्करण भी समय पर आपके हाथों में होगा।
ऑन लाइन पढ़ें-    
https://www.slideshare.net/shivnaprakashan/shivna-sahityiki-jult-september-2021
https://issuu.com/home/published/shivna_sahityiki_jult_september_2021
साफ़्ट कॉपी पीडीऍफ यहाँ से डाउनलोड करें
http://www.vibhom.com/shivnasahityiki.html