Thursday, January 21, 2021

शिवना साहित्यिकी का वर्ष : 5, अंक : 20, त्रैमासिक : जनवरी-मार्च 2021 अंक

0 comments

मित्रों, संरक्षक एवं सलाहकार संपादक, सुधा ओम ढींगरा, प्रबंध संपादक नीरज गोस्वामी, संपादक पंकज सुबीर, कार्यकारी संपादक, शहरयार, सह संपादक शैलेन्द्र शरण, पारुल सिंह के संपादन में शिवना साहित्यिकी का वर्ष : 5, अंक : 20, त्रैमासिक : जनवरी-मार्च 2021 अंक अब उपलब्ध है। इस अंक में शामिल हैं- आवरण कविता / भगवत रावत, आवरण चित्र / पंकज सुबीर, संपादकीय / शहरयार,  व्यंग्य चित्र / काजल कुमार । पुस्तक समीक्षा- निमुँहा गाँव (कहानी संग्रह), डॉ. नीलोत्पल रमेश / जयनंदन, डांग (उपन्यास), नंद भारद्वाज / हरिराम मीणा, वैश्विक प्रेम कहानियाँ (कहानी संकलन)- दीपक गिरकर / सुधा ओम ढींगरा, भूरी आँखें घुँघराले बाल (कहानी संग्रह)- रमेश शर्मा / अनुपमा तिवाड़ी, स्ट्राइक 2.0 (व्यंग्य संग्रह)- कैलाश मण्डलेकर / राजशेखर चौबे, कोरोना काल की दंश कथाएँ (निबंध संग्रह)- दीपक गिरकर / अजय बोकिल, साक्षात्कारों के आईने में (साक्षात्कार संग्रह)- दीपक गिरकर / डॉ. रेनू यादव, हिन्दी साहित्य और सिनेमा : रूपांतरण के आयाम (आलोचना)- अनिल गोयल / डॉ. विजय कुमार मिश्र, खिड़कियों से झाँकती आँखें (कहानी संग्रह)- भारती पाठक / सुधा ओम ढींगरा, मेरे गाँव का पोखरा (कविता संग्रह)- नीरज नीर / डॉ. नीलोत्पल रमेश, माँ के लिये (कविता संग्रह)- पूनम मनु / हेमधर शर्मा, सच कुछ और था (कहानी संग्रह)- मधूलिका श्रीवास्तव / सुधा ओम ढींगरा, समस्या का पंजीकरण व अन्य व्यंग्य (व्यंग्य संग्रह)- कैलाश मंडलेकर / विवेक रंजन श्रीवास्तव, प्रेम में पड़े रहना (कविता संग्रह)- डॉ. नीलोत्पल रमेश / रंजीता सिंह फलक, कविता का जनपक्ष (आलोचना)- रमेश खत्री  / शैलेंद्र चौहान, सिर्फ़ स्थगित होते हैं युद्ध (कविता संग्रह)- डॉ. शशिप्रभा / प्रभा मुजुमदार। केन्द्र में पुस्तक- अटकन-चटकन (उपन्यास)- डॉ. ज्योतिष जोशी, राजीव तनेजा, सलिल वर्मा, डॉ. अभिलाषा द्विवेदी / वंदना अवस्थी दुबे, प्रेम (कहानी संग्रह)- दीपक गिरकर, डॉ. सीमा शर्मा, मीरा गोयल / पंकज सुबीर 51। पुस्तक चर्चा- वो 17 दिन (पत्रकारिता)- राजेश बादल / ब्रजेश राजपूत, शब्द गूँज (कविता संग्रह)- रमाकांत नीलकंठ / अरुण सातले, मैं किन सपनों की बात करूँ (नवगीत संग्रह)- श्रीराम परिहार / श्याम सुन्दर तिवारी, काग भुसण्ड (व्यंग्य उपन्यास)- अंजू शर्मा / राजीव तनेजा, नज़रबट्टू (कहानी संग्रह)- निधि प्रीतेश जैन / ज्योति जैन,
कासे कहूँ (कविता संग्रह)- पंकज त्रिवेदी / विश्व मोहन, पंचामृत (संस्मरण)- अमिताभ मिश्र / अश्विनी कुमार दुबे, नक्कारख़ाने की उम्मीदें (कविता संग्रह)- पुरुषोत्तम दुबे / संतोष सुपेकर, जाएँ तो जाएँ कहाँ (कहानी संग्रह)- डॉ. श्रद्धा श्रीवास्तव / सागर सियालकोटी। नई पुस्तक - पंकज सुबीर की कहानियों का समाजशास्त्रीय अध्ययन (शोध)- दिनेश कुमार पाल, अपराजिता (उपन्यास)- श्रद्धा जोशी, समकालीनों से संवाद (साक्षात्कार, संस्मरण)- विजय बहादुर सिंह, एक कम साठ राजुरकर राज (जीवनी)- रामराव वामनकर, मीडिया का मायाजाल (पत्रकारिता)- लेखक : डॉ. मुकेश कुमार, रिश्ते (कहानी संग्रह)- पंकज सुबीर। शोध- सारांश- स्त्री पाठ : दुनिया की सबसे पुरानी सभ्यता- (पंकज सुबीर की कहानी 'दो एकांत')- दिनेश कुमार पाल। एकाग्र- नैसर्गिक करुणा, आक्रोश, इंकार और मनुष्यतापूर्ण ज़िद की कलम: राकेश कबीर- भरत प्रसाद। डिज़ायनिंग सनी गोस्वामी, सुनील पेरवाल, शिवम गोस्वामी। आपकी प्रतिक्रियाओं का संपादक मंडल को इंतज़ार रहेगा। पत्रिका का प्रिंट संस्करण भी समय पर आपके हाथों में होगा।
ऑन लाइन पढ़ें-    
https://www.slideshare.net/shivnaprakashan/shivna-sahityiki-january-march-2021
https://issuu.com/shivnaprakashan/docs/shivna_sahityiki_january_march_2021
साफ़्ट कॉपी पीडीऍफ यहाँ से डाउनलोड करें
http://www.vibhom.com/shivnasahityiki.html